क्या सैमसंग फोन वास्तव में चंद्रमा पर ज़ूम इन कर रहे हैं?

क्या सैमसंग फोन वास्तव में चंद्रमा पर ज़ूम इन कर रहे हैं?

सैमसंग की ‘अल्ट्रा’ सीरीज के स्मार्टफोन्स की एक विशेषता जूम कैमरा है। इस फोन से दूर की तस्वीरें भी काफी साफ आती हैं। सैमसंग गैलेक्सी एस23 अल्ट्रा में ‘स्पेस जूम’ नाम का एक फीचर भी है। संगठन का दावा है कि चांद की तस्वीर साफ होगी। इस बीच एक Reddit यूजर का दावा है, ‘यह सब झूठ है!’ उनके मुताबिक, कैमरे में असली इमेज धुंधली होती है। छवि को एआई द्वारा सॉफ्टवेयर में संसाधित किया जाता है और यह सही दिखता है। रेडिट यूजर ने दावा किया कि चांद के क्रेटर्स को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से प्लांट किया जा रहा है। उनके मुताबिक इस मामले में अब जांच होनी चाहिए। यह भी पढ़ें: Samsung से Oppo तक, ये 5 किफायती स्मार्टफोन

‘S20 Ultra के लेटेस्ट जूम लेंस से ली गई चांद की तस्वीरों से कई लोग हैरान हैं। लेकिन मुझे इसकी प्रामाणिकता पर काफी संदेह है। क्योंकि तस्वीरें बहुत परफेक्ट हैं। यह नहीं कह रहे कि तस्वीरें पूरी तरह से फेक हैं। लेकिन पूरी तरह से मूल नहीं, ‘Reddit यूजर ibreakphotos ने अपने पोस्ट में लिखा।

उन्होंने कहा कि उन्होंने परीक्षण के लिए इंटरनेट से चंद्रमा की एक उच्च-रिज़ॉल्यूशन छवि डाउनलोड की। इसे 170×170 पिक्सेल तक सिकोड़ें। फिर उन्होंने गॉसियन ब्लर (फ़ोटोशॉप में इमेज ब्लर फ़िल्टर) लगाया। चित्र धुंधला हो जाता है। इसके बाद उन्होंने कंप्यूटर मॉनीटर पर छवि को फ़ुल-स्क्रीन पर चलाया। फिर कमरे में अंधेरा कर दूर खड़े हो जाएं। फिर उसने सैमसंग फोन पर स्पेस जूम का इस्तेमाल करते हुए चांद की तस्वीर ली।

यह क्या हुआ। यह देखा जा सकता है कि सैमसंग फोन पर धुंधली छवि बहुत उज्ज्वल हो गई है! ओरिजिनल इमेज जहां धुंधली है, फोन को इतनी क्लियर इमेज कैसे मिली? उन्होंने सवाल उठाया।



<p>फोटो: रेडिट</p>
<p>” title=”</p>
<p>फोटो: रेडिट</p>
<p>“/><figcaption>
<p>फोटो: रेडिट</p>
<p> <strong>(रेडिट)</strong></figcaption></figure>
<p>उनके अनुसार यह एआई का खेल है।  दूसरे शब्दों में, कैमरे के लेंस में छवि धुंधली होती है।  लेकिन छवि को सॉफ्टवेयर द्वारा संसाधित किया जा रहा है, जिस पर चंद्रमा ‘दाग’ लगाए जा रहे हैं।  यही है, यह कैमरे का इतना हार्डवेयर नहीं है, बल्कि सॉफ्टवेयर की कार्यक्षमता है।</p>
<p>उनके मुताबिक, शायद इस एआई मॉडल में अलग-अलग एंगल से चांद की तस्वीरें फीड की जाती हैं।  धुंधली तस्वीर को देखकर एआई चांद पर असली क्रेटर बना रहा है।</p>
<p>उन्होंने दावा किया, ‘सैमसंग के चांद की तस्वीर फर्जी है।’  उनके अनुसार, ‘सैमसंग का यह प्रचार/विज्ञापन भ्रामक है’।  ‘यह एआई है जो ज्यादातर काम करता है, ऑप्टिक्स नहीं।  प्रकाशिकी में आपको जो विवरण मिलता है, वह कभी संभव नहीं है।’</p>
<p>इस मामले में आपकी क्या राय है?  एआई के माध्यम से मानव त्वचा की रंगत को निखारना, बैकग्राउंड ब्लर फीचर अब काफी आम है।  लेकिन चांद की ये तस्वीर हद से ज्यादा थी?  अपना सुझाव दीजिये। <strong>यह भी पढ़ें: फ्लिपकार्ट पर रिपब्लिक डे सेल शुरू!  इन 5 स्मार्टफोन्स पर मिलेगा जबरदस्त डिस्काउंट, कीमत हुई कम</strong></p>
<p><i><strong>इस खबर को आप एचटी एप से भी पढ़ सकते हैं।  अब बंगाली में एचटी ऐप।  एचटी ऐप डाउनलोड लिंक </strong></i><a rel=https://htipad.onelink.me/277p/p7me4aup

Isabella

Hello, I'm Nidhi Singh, a news author at TheUnroll.com With years of experience covering a diverse range of topics, including politics, technology, and culture, I'm committed to providing my readers with accurate and engaging reporting that helps them stay informed about the world around them.

Previous Story

क्या बिक जाएगा डिश टीवी? सुभाष चंद्रा की कंपनी के भविष्य पर अटकलें

Next Story

IND vs AUS: कोहली तीनों फॉर्मेट में कम से कम 10 प्लेयर ऑफ द मैच अवॉर्ड जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने – IND vs AUS: कोहली तीनों फॉर्मेट में कम से कम 10 प्लेयर ऑफ द मैच अवॉर्ड जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने